sacses story - पति-पत्नी बने कलेक्टर, 6th में फेल lekin उम्र 24 में बन गई IAS...👉

IAS रुकमणि रियार जो की उम्र 35 साल से भी कम है और फ़िलहाल श्रीगंगानगर जिले में कलेक्टर की पोस्ट् पर हैं...👉

और IAS सिद्धार्थ सिहाग जोकी  चूरू में बतौस  कलेक्टर हैं। मजे की बात ये है की दोनों को इसी साल जनवरी...👉

 महीने में में ही कलेक्टर की पोस्दीट पर नियक्त किया गया है...👉

सबसे पहले बात करते हैं IAS रुकमणी रियार की जो की पंजाब की हैं। जिन्होंने  केवल 24 वर्कीष की आयु में ही...👉

 UPSC एग्जाम 2011 में ही पास कर राजस्थान कैडर की IAS बनी थीं। वह भारत के योजना आयोग में इंटर्नशिप कर चुकी हैं...👉

साथ ही मैसूर और मुंबई के NGO में भी काम कर चुकी हैं।

एक इंटरव्यू में बताया था की वो  कक्षा 6 में फेल हो गई थीं। उन्होंने upsc में सफल होने के लिए  12वीं क्लास से ही...👉

 तैयारी करना शुरू कर दिया था।  उनके पिता बलजिंदर सिंह रियार होशियारपुर में डिप्टी डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी रहे चुके हैं...👉

वहीं अब हम बात करते हैं रुकमणी रियार के पति  सिद्धार्थ सिहाग की जो कि मूल रूप से हरियाणा  हिसार जिले के रहने वाले हैं...👉

 इन्होने 2010 में upsc को किलियेर कर IAS बन गए थे च उन्हें 148वीं रैंक मिली और IAS कैडर में इन्हें 2011 राजस्थान कैडर के...👉

 IAS की post  पर नियुक्त किया गया, इनका सपना था की IAS बने इसलिए उन्होंने सरदार वल्लभ भाई पटेल...👉

हैदराबाद में  राष्ट्रीय पुलिस एकेडमी से ट्रेनिंग के साथ-साथ UPSC की तैयारी की और 2011 में IAS बन भी गए...👉

 सिद्धार्थ  आईएएस बनने से पहले जज की पोस्ट पर भी रह चुके हैं।  वहीं उनके भाई अभी भी दिल्ली में जज हैं। और...👉

उनके पिता  दिलबाग सिंह सिहाग हरियाणा में चीफ टाउन प्लानर के पद से रिटायर हुए हैं।