Mirabai Chanu  Biography & Interesting Facts |  मीराबाई चानू का जीवन परिचय और रोचक तथ्य 

मीराबाई का जन्म नोंगपोक काकचिंग, इंफाल पूर्व, मणिपुर, भारत में एक हिन्दू परिवार में  8 अगस्त 1994 को हुआ.

वास्तविक नाम सैखोम मीराबाई चानू आयु  - 28 वर्ष { वर्ष 2022 के अनुसार  } राष्ट्रीयता - भारतीय

ऊंचाई (लगभग) मीटर में - 1.50 मीटर गृहनगर - मणिपुर, भारत वजन लगभग  - 48kg 

पिता - सैखोम कृति मीतेई ( सरकारी कर्मचारी ) माता - सैकोहम ओंगबी तोम्बी लीमा ( दुकानदार )

भाई - सैखोम सनतोम्बा मैतेई बहने - सैकोम रंगिता, सैखोम शाया सैखोम मीराबाई चानून ये 5 भाई-बहाने हैं। मीराबाई चानू अपने परिवार में छठी और सबसे छोटी संतान हैं

वैवाहिक स्थिति - अविवाहित

धर्म - हिन्दू धर्म शौक - यात्रा करना, संगीत सुनना, बास्केटबॉल खेलना

मीराबाई चानू  ने कई पदक जीते है.....👉

 मीराबाई चानू हाल ही में 31 जुलाई 2022 के दिन कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के लिए गोल्ड जीत कर इतिहास रच दिया है

राष्टीय लेवल  खेलों  :- 1.  रजत - ग्लासगो 2014 2.  गोल्ड - गोल्ड कोस्ट 2018

विश्व चैंपियनशिप लेवल  खेलों  :- 1. गोल्ड - अनाहेम  2017

एशियाई चैंपियनशिप लेवल  खेलों  :- 1. कांस्य - ताशकंद 2020

ओलंपिक लेवल  खेलों  :- 2. रजत - टोक्यो ओलंपिक 2020

अप्रैल 2021  ताशकंद में आयोजित एशियाई चैंपियनशिप में अविश्वसनीय 119kg भार उठाकर एक नया विश्व रिकॉर्ड आने नाम किया।

पुरस्कार, सम्मान व उपलब्धियां ....👉

मणिपुर के मुख्यमंत्री { एन बीरेन सिंह } द्वारा ₹20 लाख के नकद पुरस्कार से सम्मानित  किया गया.

वर्ष 2018 में इन्हे पद्म श्री से सम्मानित किया गया.

वर्ष 2018 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया 

2020 टोक्यो ओलंपिक में रजत पदक जीतने के बाद  1 करोड़ मणिपुर  मुख्यमंत्री ने  1 करोड़ रुपये राज्य सरकार की तरफ से पुरस्कार स्वरूप दिए

मीराबाई चानू कुंजारानी देवी को अपना आदर्श और अपना गुरु मानती है  ऐसा उन्होंने एक  इंटरव्यू में बताया था 

मीराबाई चानू ने स्थानीय भारोत्तोलन प्रतियोगिता में केवल 11 साल की उम्र में ही अपने करियर का पहला प्रतिस्पर्धी स्वर्ण पदक जीता।

मीराबाई चानू ने स्थानीय भारोत्तोलन प्रतियोगिता में केवल 11 साल की उम्र में ही अपने करियर का पहला प्रतिस्पर्धी स्वर्ण पदक जीता।